मशहूर तबला वादक पंडित सुभाष निर्वाण की याद में हुआ सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजन -देश विदेश के कलाकारों ने किया शिरकत

भारत देश में वैसे तो रोजाना ही सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होता रहता है और दिल्ली जैसे बड़े शहर में भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए आज कल बहुत से लोग आगे आ रहे है वैसा ही एक कार्यक्रम का आयोजन आज दिल्ली के आज़ाद भवन में सम्पन्न हुआ पंडित सुभाष निर्वाण जो की अपने समय के एक बहुत ही मशहूर तबला वादक रहे है और उनके निधन के बाद उनकी दी गयी धरोहर को जिन्दा रखने के लिए उनकी याद में आध्यन कार्यक्रम का आयोजन उनके पुत्र सूरज निर्वाण जो की एक मशहूर तबला वादक है और देश विदेश में अपनी प्रस्तुति देकर अपने पिता की धरोहर को संजोये हुए है।

तबले के साथ में कत्थक का भी अतभुद संगम देखने को मिला कार्यक्रम में देश-विदेश के श्रोता गन ने शिरकत किया लेकिन आकर्षण का केंद्र रही गुरु मालती श्याम जो की लखनऊ घराने से ताल्लुक रखती है मालती श्याम ने 11 साल की उम्र में ही कत्थक सीखना शुरू कर दिया और पंडित रवि शंकर जी के सानिध्य में कत्थक की बारीकियों को सीखा। मालती श्याम ने अपने कत्थक नृत्य से सबको मंत्र मुग्ध कर दिया।तबला वादक गुरु विवेक प्रजापति ने भी अपनी तबले की धुन से सबका मन मोह लिया।

आध्यन कार्यक्रम का आयोजन पंडित गोपाल दास निर्वाण मेमोरियल म्यूजिक सोसाइटी द्वारा किया गया था। सोसाइटी के द्वारा समय-समय पर संगीत को बढ़ावा देने के लिए इस प्रकार के आयोजन कराती है।
कार्यक्रम में देश-विदेश के संगीतकारों ने भी अपनी प्रस्तुति दी जिससे श्रोताओ ने काफी सराहा। अमेरिका से आये गिटार वादक जोएल वीणा ने भी अपनी प्रस्तिति दी। जोएल वीणा से पूछने पर उन्होंने बताया की वह भारतीय संगीत को बचपन से ही पसंद करते है और अपने देश में भारतीय संगीत का प्रचार करते आ रहे है उन्होंने बताया की आज हिंदुस्तान की जमीन पर आकर वह अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहे है।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से तबला वादक सूरज निर्वाण,सारंगी वादक नासिर खान रहे ।बांसुरी वादक मयंक रैना ने अपनी धुनों पर सबका दिल जीत लिया ।
बाबर लतीफ़ ने भी अपने तबले की थाप पर सबको खूब मंत्रमुग्ध किया ।हारमोनियम ज़ाकिर ढोल पूरी ने बजाया जिसे श्रोताओ ने खूब सराहा।
उस्ताद इक़बाल अहमद खान मुख्य अथिति रहे जो की दिल्ली घराने से ताल्लुक रखते है और भारतीय संगीत को एक नयी दिशा देने के लिए जाने जाते है

कार्यक्रम में श्री प्रवीन कुमार शर्मा और श्री प्रवीन खंगवाल भी मौजूद रहे।इनकी मौजूदगी में पुरे कार्यक्रम का आयोजन किया गया पूछने पर श्री शर्मा जी ने बताया की उन्होंने भारतीय संस्कृति को संजोने के लिए अपना पूरा जीवन लगा दिया और आगे भी वह इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here